Literature Life

लघु कथा – सही आलोचक

आपने भारत की किसी यूनिवर्सिटी में किसी भी पद पर बिना सिफ़ारिश ( वह भी टॉप की ) कोई नियुक्ति न कभी देखी होगी, न पाई । प्रोफ़ेसर वर्मा भी बड़े जतन से सागर वि वि के हिंदी विभाग में तब रोपित किए गए थे जब वह तब के वि वि के हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ राकेश जी के बरसों से […]

Read more

तुम्हारी गर्लफ्रेंड बहुत अच्छी है ..लेकिन मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ – एपिसोड 5

अंधेरे कमरे में ———— फ़िटनेस टेस्ट मेरी आशंका के विपरीत उत्साहजनक रहा। सिर्फ डिलवरी स्ट्राइड में मामूली दिक्कत हो रही थी। कोच सर ने कहा- “आजकल इधर-उधर बहुत उछलते हो इसलिए ये हाल है!” उनका इशारा सोनम की ओर था। खैर, मुझे 70 फीसदी मैच फिट करार दिया गया। पूरे ज़ोन के इकलौते रिवर्स स्विंग बॉलर को खिलाने के लिए […]

Read more

तुम्हारी गर्लफ्रेंड बहुत अच्छी है..लेकिन मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ – एपिसोड 4

उफ्फ… ——— मेरे और उस लड़के के पंजे टकराए और आपस में उलझ गए। पहले हमारे हाथों का जोड़ हवा में अंग्रेजी के A अक्षर की तरह हवा में उठा और जोर लगने के बाद V की तरह नीचे आ गया। दोनों बराबरी का जोर लगा रहे थे। लड़का काफी दमदार था। मांसपेशियों पर तनाव आने से हमारे चेहरे अपनी […]

Read more

तुम्हारी गर्लफ्रेंड बहुत अच्छी है..लेकिन मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ – एपिसोड 3

स्विमिंग पूल, सोनम और वो… ————————— अगले दिन- सोनम के कॉलेज में मेरी एंट्री एक खिलाड़ी के रूप में हो रही थी। जेवियर कॉलेज कैम्पस में शहर के सारे कॉलेजों की भागीदारी से स्पोर्ट्स वीक शुरू होने जा रहा था। जाहिर है मेरा कॉलेज भी शामिल था। सारे खेलों में बास्केटबॉल और क्रिकेट की हाइप ज्यादा थी। स्पोर्ट्स वीक सलेक्शन […]

Read more

तुम्हारी गर्लफ्रेंड बहुत अच्छी है..लेकिन मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ – एपिसोड 2

कौन थी वो लड़की? —————— गर्ल्स हॉस्टल के 27 नम्बर कमरे के दरवाजे पर दस्तक हुई। – “आजा दिव्या …लॉक नहीं किया है…” उसने कहा। – ” दिव्या तो गई भारती के पास, अब तुमने अंदर बुलाया ही है तो मैं आ जाता हूँ मिस अमृता” -” ओह”ह…सर! आप!!! ” – ” रात होनेवाली है और मैं तुम्हारे कमरे में…तुम्हारे […]

Read more

तुम्हारी गर्लफ्रेंड बहुत अच्छी है..लेकिन मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ – एपिसोड 1

मेरे लिए कॉलेज का मतलब था क्रिकेट। क्लासरूम से ज्यादा वक्त मेरा ग्राउंड पर बीतता था। अपने मिडिलक्लास कॉलेज का सबसे फ़ास्ट बॉलर और सामने पैसेवालों ( हम दोस्त यही कहा करते थे) के कॉलेज की सबसे खूबसूरत लड़की का बॉयफ्रेंड होना मेरी काबिले-जिक्र उपलब्धि थी। – ” मुझे तेरा बॉलिंग एक्शन बहुत अच्छा लगता है बिट्टू, बस इसलिए ही […]

Read more

स्लीप पैरालिसिस

मैं भूल जाउंगी कि मैंने क्या कुछ लिखा था तुम भी भूल जाना कि तुमने क्या पढ़ा । मैं बहुत दिनों के लिए मर गयी थी। मेरा दोबारा जन्म हुआ है। एक लंबे समय से नींद जाने कौन सी रंजिश निभा रही है।अंदर एक चुप्पा सा पसरा हुआ है।एकाध घंटे को आँख लग भी जाए तो सिहरन भर देने वाले […]

Read more

केवल कृष्ण का लघु उपन्यास – बोगदा (भाग ५ – अंतिम)

– रीगन तेरा तानाशाही – नहीं चलेगी नहीं चलेगी – अमरीका तेरा तानाशाही – नहीं चलेगी नहीं चलेगी – शोम्राजबाद… – मुरदाबाद मुरदाबाद – सोरबाजनिक क्षेत्रों का निजीकरण पे – रोक लगाओ रोक लगाओ…… सुल्तान को कुछ पल्ले तो पड़ नहीं रहा था, तब भी वह भी चीख चीख कर नारे लगा रहा था। जब दादा नारे लगवा रहे होंतो […]

Read more

अपनी ख़लवत में भटकते हुए

देर रात ‘ग्रीन टी’ का प्याला लिए बालकनी में फालतू सा खड़े रहना जैसे अपने आप को खोजना। यूकिलिप्टस की विरल कतारों के पीछे ऊँचे पुल पर तेज़ी से गुज़रती हुई आख़िरी मेट्रो रेल एक चमचमाती तूल -तवील लक़ीर सी दिखती है। इतनी रात भी खाक़ उड़ाती गर्म हवा खुली बाँहों और चेहरे पर थपेड़ों की तरह पड़ रही है। […]

Read more

शब्दों की भी सीमाएँ हैं

शब्द बांध न सकें तुम्हें भाव लांघ न सकें तुम्हे कहने की पर आशायें है शब्दों की भी सीमायें हैं ।   सब भाव तुम्हारे चेहरे के निष्कपट से हैं सब झलक रहे आंखों के बीच तैरते से कुछ ख्वाब तुम्हारे छलक रहे कहने को मैं कह दूं इतना इस दुर्गम जीवन अरण्य में हम साथ तुम्हारे आये हैं शब्दों […]

Read more
1 2 3 6