ऐसी वैसी औरत -ए मस्ट रीड बुक

नये समाज को बारीक चश्मे से देखती किताब! घने बादलों के बीच चमकती बिजली देखने में जितनी अच्छी लगती है गिरने पर उतनी ही विनाशकारी….हम सबके जीवन में कुछ ऐसी ही कहानियां छुपी या जुड़ी होती हैं जिन्हें या तो दफ्ना दिया जाता या समय के साथ सज़ा भुगतने को छोड़ दिया जाता है! मगर लाचारी, कमज़ोरी, हवस और बहकावे […]

Read more

डार्क नाइट की समीक्षा

इस साल एक बार फिर से उपन्यास पढ़ने की ख़्वाहिश हुई। वैसे तो मैं ख़ुद एक कहानीकार हूँ और कहानियाँ पढ़ना ही ज़्यादा पसंद है। फिलहाल एक हज़ार शब्दों के अंदर भी कहानियाँ लिखी जा रही है। लेकिन ऐसी कहानियों में अभी भी अपने आपको बाँध नहीं पाता हूँ। मेरी कहानियाँ दो हज़ार से ऊपर शब्दों में होती हैं। खैर […]

Read more

विश्व पुस्तक दिवस पर ज़िंदगी ५०-५० की समीक्षा

उपन्यास ज़िंदगी ५०-५० की समीक्षा राकेश शंकर भारती, द्नेप्रोपेत्रोव्स्क, यूक्रेन तारीख़- २३-०४-२०१८ विश्व पुस्तक दिवस पर ज़िंदगी ५०-५० की समीक्षा आपके सामने पेश है दो हफ़्ते पहले मैंने अमेज़न पर भगवंत अनमोल जी के उपन्यास, ज़िंदगी ५०-५० ऑनलाइन ख़रीदकर किंडल पर पढ़ा। अपने पारिवारिक झमेले और दोनों छोटे बच्चों से समय निकाल आख़िर तक यह उपन्यास पढ़ डाला। मुझे इस […]

Read more

रोगों की जड़ मन में होती है

पिछले तीन-चार दिनों से गाड़ी चलाने में परेशानी हो रही थी। लग रहा था कि पिछले पहिए में हवा का दबाव काफ़ी कम हो गया है। इसके चलते महसूस हो रहा था कि गाड़ी चलते वक़्त लहरा रही है। मन में चिंता भी लगी थी कि कम हवा के चलते कहीं नया टायर ख़राब न हो जाए या ट्यूब कट […]

Read more

पिछले कुछ दिनों किंडल पर पढ़ी पुस्तकें

पिछले कुछ दिनों में अमेज़न किंडल पर पढ़ी पुस्तकें : भूतों के देश में : आइसलैंड की यात्रा का रोमांचकारी वर्णन समेटे हुए यह किताब पन्ने पलटते हुए आपको अलौकिक आभास करवाएगी। नॉर्वे निवासी खाँटी बिहारी लेखक व रेडियोलॉजिस्ट Praveen Jha जी द्वारा टाइपित (सिर्फ ऑनलाइन उपलब्ध) खिलंदर साहित्य का अद्वितीय उदाहरण यह पुस्तक बर्फीले देश, भूत, तांत्रिक, अलहदा जीवनशैली, […]

Read more

राकेश शंकर भारती का कहानी-संग्रह नीली आँखें की समीक्षा

  नीली आँखें- पूर्वी यूरोप और यूक्रेन के समाज पर रोमाँचक कहानियों का अनोखा संग्रह राकेश शंकर भारती का कहानी संग्रह नीली आँखें दस कहानियों का अनूठा संग्रह है इस बार हम नवजागरण प्रकाशन की तरफ़ से सिर्फ़ पूर्वी यूरोप के समाज और परिवेश पर आधारित कहानियों को ही जगह दे रहे हैं। “नीली आँखें” की सारी कहानियाँ काफ़ी दिलचस्प […]

Read more