क्या आप भूत-प्रेत में विश्वास करते हैं?

“डू यू बिलीव इन घोस्ट्स?” मेरी सहकर्मी एंजेला ने मुझसे पूछा। “वाय?” मुझे उसके इस आकस्मिक प्रश्न पर थोड़ा आश्चर्य हुआ। अचानक यह भूत-प्रेतों का प्रसंग कहाँ से निकल आया। “घोस्ट होते हैं” पास बैठे एक अन्य सहकर्मी स्टीव ने कहा। अब तो मेरा आश्चर्य और भी बढ़ा। अंग्रेज़ों के बारे में मेरी धारणा यही थी कि वे वैज्ञानिक मानसिकता […]

Read more

स्पेन – धूप, फ्लेमेंको और बुल फाइट

पिछले दिनों स्पेन की यात्रा पर रहा. ब्रिटेन की नम और ठंडी आबोहवा से कुछ समय का अवकाश पाने के लिए ब्रिटेनवासी अक्सर स्पेन के गर्म और धूप से नहाए समुद्रतटों का रुख करते हैं. खासतौर पर गर्मियों के महीनों में स्पेन के समुद्रतटीय इलाके ब्रिटेश सैलानियों से भरे होते हैं. पिछले कुछ दशकों में पर्यटन एजेंसियों और टूर ऑपरेटरों […]

Read more

करी कथा – अंग्रेज़ी ज़ुबान पर हिन्दुस्तानी ज़ायका

वह लन्दन में मेरी पहली शाम थी। हौलबोर्न इलाके के जिस सर्विस अपार्टमेंट में मैं ठहरा था उसमें हमारी कम्पनी के कई और लोग भी ठहरे हुए थे। पहले ही दिन उन सबसे अच्छी मित्रता हो गई। शाम ढलते ही हमने निर्णय किया कि उस रात हम पश्चिमी खाना न खाकर हिंदुस्तानी खाना ही खायेंगे। एयरफ्रांस की फ्लाइट में मिले […]

Read more

अंग्रेज़ – पियक्कड़, व्यभिचारी, पर बड़े शिष्टाचारी

अगस्त का महीना था और मौसम गर्म था। हालांकि भारतीय गर्मियों की तुलना में वह शायद वसंत ऋतु का मौसम ही लगे, मगर कड़क सर्दी के आदी अंग्रेज़ों के लिये वह गर्मी ही थी। इंग्लॅन्ड में उन दिनो गर्मियों का मौसम वैसे भी उतना गर्म नहीं हुआ करता था जितना आजकल होने लगा है। शायद यह ग्लोबल वॉरमिंग का ही […]

Read more

अंग्रेज़ी मुल्क में कितना रोमांस है?

जब कभी भारत और ब्रिटेन की तुलना हो तो एक मज़ेदार बात कही जाती है, ‘इन ब्रिटेन यू कैन किस इन पब्लिक बट कैन नॉट पिस इन पब्लिक, इन इंडिया यू कैन पिस इन पब्लिक बट कैन नॉट किस इन पब्लिक’. वैसे मात्र एस्थेटिक्स के स्तर पर देखा जाए तो चुम्बन का दृश्य काफ़ी मनोहर और आकषर्क होता है और […]

Read more

रूह को छूने वाला संगीत

लन्दन से बर्मिंघम आए हुए कुछ दिन ही हुए थे। बर्मिंघम में मेरे एक अंग्रेज़ साथी एडम भारतीय संगीत में थोड़ी बहुत रुचि रखते थे। पण्डित रविशंकर को उन्होने सुन रखा था। आशा जी के कुछ एल्बम भी उन्होने सुने थे। एक दिन बातचीत में मैने उनसे उस्ताद ज़ाकिर हुसैन का ज़िक्र किया। मैने उनसे कहा कि आप ज़ाकिर हुसैन […]

Read more

व्यंग की चुनौतियाँ क्या हैं?

जनवरी के महीने में दिल्ली में विश्व पुस्तक मेले में था। वहाँ किसी साहित्यिक चर्चा में व्यंग की चुनौतियों पर विमर्श हो रहा था। मुझे भी अपने विचार रखने का अवसर मिला। व्यंग की तमाम चुनौतियों के बीच जो सबसे बड़ी चुनौती मुझे नज़र आती है वह है उसके कटाक्ष के प्रति सहिष्णुता या सहनशीलता की कमी। व्यंग चुभता है, […]

Read more

मन के कैनवास पर मौसम की रचनाएँ

इन दिनों ब्रिटेन कड़कती सर्दी और भीषण बर्फबारी की चपेट में है। उस पर एमा (अटलांटिक महासागर से उठने वाला तूफ़ान) का क्रोध कहर बरपा रहा है। जीवन अस्त-व्यस्त हो रखा है, लोग-बाग घरों में दुबके पड़े हैं और आधे ब्रिटेन में यातायात ठप्प पड़ा हुआ है। जो लोग हिमपात से पहले या हिमपात के बावजूद सड़कों पर अपने वाहन […]

Read more