केवल कृष्ण का लघु उपन्यास – बोगदा (भाग ५ – अंतिम)

– रीगन तेरा तानाशाही – नहीं चलेगी नहीं चलेगी – अमरीका तेरा तानाशाही – नहीं चलेगी नहीं चलेगी – शोम्राजबाद… – मुरदाबाद मुरदाबाद – सोरबाजनिक क्षेत्रों का निजीकरण पे – रोक लगाओ रोक लगाओ…… सुल्तान को कुछ पल्ले तो पड़ नहीं रहा था, तब भी वह भी चीख चीख कर नारे लगा रहा था। जब दादा नारे लगवा रहे होंतो […]

Read more

अपनी ख़लवत में भटकते हुए

देर रात ‘ग्रीन टी’ का प्याला लिए बालकनी में फालतू सा खड़े रहना जैसे अपने आप को खोजना। यूकिलिप्टस की विरल कतारों के पीछे ऊँचे पुल पर तेज़ी से गुज़रती हुई आख़िरी मेट्रो रेल एक चमचमाती तूल -तवील लक़ीर सी दिखती है। इतनी रात भी खाक़ उड़ाती गर्म हवा खुली बाँहों और चेहरे पर थपेड़ों की तरह पड़ रही है। […]

Read more

शब्दों की भी सीमाएँ हैं

शब्द बांध न सकें तुम्हें भाव लांघ न सकें तुम्हे कहने की पर आशायें है शब्दों की भी सीमायें हैं ।   सब भाव तुम्हारे चेहरे के निष्कपट से हैं सब झलक रहे आंखों के बीच तैरते से कुछ ख्वाब तुम्हारे छलक रहे कहने को मैं कह दूं इतना इस दुर्गम जीवन अरण्य में हम साथ तुम्हारे आये हैं शब्दों […]

Read more

ऐसी वैसी औरत -ए मस्ट रीड बुक

नये समाज को बारीक चश्मे से देखती किताब! घने बादलों के बीच चमकती बिजली देखने में जितनी अच्छी लगती है गिरने पर उतनी ही विनाशकारी….हम सबके जीवन में कुछ ऐसी ही कहानियां छुपी या जुड़ी होती हैं जिन्हें या तो दफ्ना दिया जाता या समय के साथ सज़ा भुगतने को छोड़ दिया जाता है! मगर लाचारी, कमज़ोरी, हवस और बहकावे […]

Read more

केवल कृष्ण का लघु उपन्यास – बोगदा (भाग ४)

अब देखो कैसा यूनिटी दिख रहा है – कॉमरेड मुखर्जी ने पुलकित होते हुए सुल्तान सिंग से कहा। सुलतान सिंग ने कहा- हां दादा, दिख तो रहा है। मैं येइच्च तो चाहता था। शाबास कॉमरेड, बहुत अच्छा काम किया तुमने। -कॉमरेड मुखर्जी ने सुल्तान की पीठ ठोकी। लेकिन एक बात बताओ दादा, ये लाल झंडा यूनिटी कैसे है ? – […]

Read more

केवल कृष्ण का लघु उपन्यास – बोगदा (भाग ३)

– ये सब पैसे वालों को खडयंत्र हैं। -मुखर्जी दादा ने चारमिनार का कश खींचते हुए कहा। सुलतान सिंग सिलाई मशीन की पैडल धुके जा रहा था। किचकिच किचकिच करती हुई सुई धकाधक टांके लगाए जा रही थी। कपड़ा पीछे की ओर सरकता जा रहा था। सुलतान सिंग ने अचानक पैडल रोक कर, सुई का लीवर उठाया और कपड़ा अपनी […]

Read more

मंटो के जन्मदिन पर उनके अफ़साने पर एक छोटी सी रपट

आज मेरे सबसे प्यारे अफ़साने निगार सादत हसन मंटो का जन्मदिन है. मैंने उर्दू में उनकी कहानियाँ पढ़कर कहानी लिखना सीखी है. मंटो अपने ज़माने से आगे थे, जिसकी सज़ा मरते दम तक उन्हें मिलती रही. दक्षिणी एशिया के वे सबसे महान कहानीकारों में एक हैं. अगर नये लेखकों को मौक़ा मिले तो मंटो के अफ़साने ज़रूर पढ़ें. मंटो की […]

Read more

राइटर्स ब्लॉक को कैसे तोड़ें?

जब समरसिद्धा लिखने बैठा तो न तो कोई कहानी थी और न कोई रूपरेखा। तब तो मैं खुद को लेखक भी नहीं समझता था। उपन्यास तो बहुत दूर तब तक तो कोई लघुकथा भी नहीं लिखी थी। मगर बचपन से ही जब छोटी छोटी पॉकेट बुक पढ़ता था एक हसरत सी थी कि बड़ा होकर एक उपन्यास लिखूँगा जिसमें फंतासी […]

Read more

क्या आप भूत-प्रेत में विश्वास करते हैं?

“डू यू बिलीव इन घोस्ट्स?” मेरी सहकर्मी एंजेला ने मुझसे पूछा। “वाय?” मुझे उसके इस आकस्मिक प्रश्न पर थोड़ा आश्चर्य हुआ। अचानक यह भूत-प्रेतों का प्रसंग कहाँ से निकल आया। “घोस्ट होते हैं” पास बैठे एक अन्य सहकर्मी स्टीव ने कहा। अब तो मेरा आश्चर्य और भी बढ़ा। अंग्रेज़ों के बारे में मेरी धारणा यही थी कि वे वैज्ञानिक मानसिकता […]

Read more

केवल कृष्ण का लघु उपन्यास – बोगदा (भाग २)

न तो कभी जगतार अकेले दिखा, न बलबीर। जब भी दिखे साथ दिखे। साथ-साथ साइट जाते। साथ-साथ लौटते। यहां तक कि साथ-साथ दिशा मैदान भी हो आते। जगतार सिंह थे तो रिगर लेकिन थोड़े दुबले थे। उम्र 55 को पार कर गई थी। बलबीर सिंग 35-40 साल का हट्टा-कट्टा जवान। चौड़ा और कसा हुआ चेहरा। उस पर तनी हुई मूंछें। […]

Read more
1 2 3 4 12