गंभीर लेखन बनाम लोकप्रिय लेखन – 2

‘गंभीर लेखन बनाम लोकप्रिय लेखन’ पर सत्य भाई की बात मुझे लगता है अधूरी रह गयी। हिन्दी का एक दुर्भाग्य यह है कि धीरे-धीरे वादों से जुड़े आलोचक हिन्दी साहित्य की दशा-दिशा तय करने लगे। प्रेमचन्द, रेणु, अमृतलाल नागर, भगवती चरण वर्मा, यशपाल, राजेन्द्र यादव, मन्नू भंडारी, शिवानी, आचार्य चतुरसेन, नरेन्द्र कोहली (रामकथा तक) को आप कहाँ रखेंगे? क्या इनका […]

Read more