रूह को छूने वाला संगीत

लन्दन से बर्मिंघम आए हुए कुछ दिन ही हुए थे। बर्मिंघम में मेरे एक अंग्रेज़ साथी एडम भारतीय संगीत में थोड़ी बहुत रुचि रखते थे। पण्डित रविशंकर को उन्होने सुन रखा था। आशा जी के कुछ एल्बम भी उन्होने सुने थे। एक दिन बातचीत में मैने उनसे उस्ताद ज़ाकिर हुसैन का ज़िक्र किया। मैने उनसे कहा कि आप ज़ाकिर हुसैन […]

Read more