हिन्दी लेखक शोषित वर्ग में क्यों आता है?

हिन्दी लेखक सच ही शोषित वर्ग में आता है … पर इसके लिए वह स्वयं दोषी है। कारण देखिए – जिस पल कोई लेखक अपनी किताब लेकर बाजार में आ जाता है, वह बाजार का हिस्सा बन जाता है। बाजार अपने नियमों से चलता है, वह इस बात से प्रभावित नहीं होता कि यह बंदा खुद को साहित्यकार कहता है […]

Read more

कारवाँ बढ़ रहा है..

लिटरेचर लाइफ का खूबसूरत सफ़र ही हमारी मंज़िल है और ख़ुशी है कि इस सफ़र पर चल रहा कारवाँ बढ़ता ही जा रहा है. दो और बहुत अच्छे लेखक हमारी वेबसाइट से जुड़े हैं, और खुशकिस्मती से दोनों ही युवा ऊर्जा से भरपूर होने के साथ ही साहित्यिक अनुभवों से भी लबरेज़ हैं. भगवंत अनमोल और डॉ अबरार मुल्तानी दोनों […]

Read more

गौतम राजऋषि जी का स्वागत करें

यह हमारा सौभाग्य है कि हमारी वेबसाइट से आज बेहद चर्चित, उम्दा और अनुभवी लेखक और कवि गौतम राजऋषि जी जुड़े हैं. जब मैंने पहले पहल गौतम जी की ग़ज़लें फेसबुक पर पढ़ीं तो मेरा अपने भाग्य पर इतराना लाज़मी था कि इतने उम्दा शायर मेरे फेसबुक मित्र हैं. फिर उनसे दिल्ली विश्व पुस्तक मेले में मुलाकात हुई और उनके […]

Read more

अपनी पुस्तक के लिए प्रकाशक कैसे चुनें?

आप लिखते हैं तो यह भी चाहते हैं कि आपका लेखन पाठकों तक पहुँचे और आपकी लेखक के रूप में पहचान बने। इसके लिए ज़रूरी होता है आपके लेखन का प्रकाशन। पुस्तक का प्रकाशन एक बड़ी चुनौती होती है, न सिर्फ नए लेखक के लिए बल्कि अनुभवी और स्थापित लेखकों के लिए भी क्योंकि प्रकाशकों की अपनी पसंद और प्राथमिकताएँ […]

Read more