डार्क नाइट की समीक्षा

इस साल एक बार फिर से उपन्यास पढ़ने की ख़्वाहिश हुई। वैसे तो मैं ख़ुद एक कहानीकार हूँ और कहानियाँ पढ़ना ही ज़्यादा पसंद है। फिलहाल एक हज़ार शब्दों के अंदर भी कहानियाँ लिखी जा रही है। लेकिन ऐसी कहानियों में अभी भी अपने आपको बाँध नहीं पाता हूँ। मेरी कहानियाँ दो हज़ार से ऊपर शब्दों में होती हैं। खैर […]

Read more