केवल कृष्ण का लघु उपन्यास – बोगदा (भाग ३)

– ये सब पैसे वालों को खडयंत्र हैं। -मुखर्जी दादा ने चारमिनार का कश खींचते हुए कहा। सुलतान सिंग सिलाई मशीन की पैडल धुके जा रहा था। किचकिच किचकिच करती हुई सुई धकाधक टांके लगाए जा रही थी। कपड़ा पीछे की ओर सरकता जा रहा था। सुलतान सिंग ने अचानक पैडल रोक कर, सुई का लीवर उठाया और कपड़ा अपनी […]

Read more

अफ़जल अहमद की हिंदी कहानी – मिस रनर

                         मिस रनर        ‘एक मिनट, ज़रा मोबाइल और हेडफ़ोन ले लूँ!’ एकाएक मुझे याद आया।         यूँ तो मैं हर रोज़ ही सुबह 5 बजे उठ जाता हूँ और शायद मेरे दरवाजा खोलने की आवाज़ से मेरे पड़ोसी भी।         ‘मेरे पड़ोसी?’         नहीं समझे आप? मेरे पड़ोसी यानी कि मकान में रहने वाले दूसरे किराएदार।         हॅलो दोस्तों, […]

Read more