विश्व पुस्तक दिवस पर ज़िंदगी ५०-५० की समीक्षा

उपन्यास ज़िंदगी ५०-५० की समीक्षा राकेश शंकर भारती, द्नेप्रोपेत्रोव्स्क, यूक्रेन तारीख़- २३-०४-२०१८ विश्व पुस्तक दिवस पर ज़िंदगी ५०-५० की समीक्षा आपके सामने पेश है दो हफ़्ते पहले मैंने अमेज़न पर भगवंत अनमोल जी के उपन्यास, ज़िंदगी ५०-५० ऑनलाइन ख़रीदकर किंडल पर पढ़ा। अपने पारिवारिक झमेले और दोनों छोटे बच्चों से समय निकाल आख़िर तक यह उपन्यास पढ़ डाला। मुझे इस […]

Read more

पिछले कुछ दिनों किंडल पर पढ़ी पुस्तकें

पिछले कुछ दिनों में अमेज़न किंडल पर पढ़ी पुस्तकें : भूतों के देश में : आइसलैंड की यात्रा का रोमांचकारी वर्णन समेटे हुए यह किताब पन्ने पलटते हुए आपको अलौकिक आभास करवाएगी। नॉर्वे निवासी खाँटी बिहारी लेखक व रेडियोलॉजिस्ट Praveen Jha जी द्वारा टाइपित (सिर्फ ऑनलाइन उपलब्ध) खिलंदर साहित्य का अद्वितीय उदाहरण यह पुस्तक बर्फीले देश, भूत, तांत्रिक, अलहदा जीवनशैली, […]

Read more